Paragraph

Try to be Satisfied

Let’s observe the reality, we live in the world where everyone is running for something so called as goal, dream, luxurious life etc.

Many people do achieve their target , some also achieve their half of the goal and those people who are not satisfied for that half of their achievement can never get more, because in this world the most rarest thing to achieve is SATISFACTION .

You can run for your goal , dream to make your life luxurious but at a same time you can also lose your living age when you have to spend your time with your self, to try to know your self, to try to understand your self and the most important thing ,that you have to satisfy your self .

We never imagine that for achieving one thing we loose many precious thing which we have, and we don’t even realise it and we ignore them just like hell .

We dont even know if we will get them in future or not, so live in present, enjoy your present, past is the thing that we cannot change and future … i am like “what is future” no one knows their future.

We don’t even know whether we will see tomorrow or not. We don’t know when our eyes will be permanently closed, and when will we start our journey for the another world.

Future is not in our hands but yes present is in our hand, we can make our present filled with full of happiness.

enjoy every moment of your life, make your smile like a river coming from mountain, cry like monsoon rain, feel the every single moment like it will never happen again and live like it is your last day of the journey called “life”.

Enjoy the every single day, every moment, every second to make your self satisfied. May be in between this hustle you can achieve “Inner peace of your mind”. 

WRITTEN BY : MANJARI PATEL, SURAT.

Instagram profile link of writer : https://www.instagram.com/__shelly__patel__/

If someone wants to publish their write-ups on this website then contact us through this link: https://explorography.com/?page_id=139

Translation in Hindi :

आइए वास्तविकता का निरीक्षण करते हैं, हम उस दुनिया में रहते हैं जहाँ हर कोई किसी चीज़ के लिए भाग रहा है जिसे लक्ष्य, स्वप्न, विलासितापूर्ण जीवन आदि कहा जाता है।

बहुत से लोग अपना लक्ष्य प्राप्त कर लेते हैं, कुछ अपना आधा लक्ष्य भी प्राप्त कर लेते हैं और जो लोग अपनी आधी उपलब्धि के लिए संतुष्ट नहीं होते हैं, वे कभी अधिक प्राप्त नहीं कर सकते हैं, क्योंकि इस दुनिया में सबसे बड़ी उपलब्धि हासिल करना है।

आप अपने लक्ष्य के लिए दौड़ सकते हैं, अपने जीवन को शानदार बनाने का सपना देख सकते हैं लेकिन साथ ही साथ आप अपने जीवन को तब भी खो सकते हैं जब आपको अपना समय स्वयं के साथ बिताना होगा, अपने आत्म को जानने की कोशिश करनी होगी, अपने आप को समझने की कोशिश करनी होगी। सबसे महत्वपूर्ण बात, कि आपको अपने आप को संतुष्ट करना है।

हम कभी नहीं सोचते हैं कि एक चीज को हासिल करने के लिए हमारे पास कई कीमती चीजें हैं जो हमारे पास हैं, और हमें इसका एहसास भी नहीं है और हम उन्हें नरक की तरह अनदेखा करते हैं।

हम यह भी नहीं जानते हैं कि हम उन्हें भविष्य में प्राप्त करेंगे या नहीं, इसलिए वर्तमान में जिएं, अपने वर्तमान का आनंद लें, अतीत वह चीज है जिसे हम बदल नहीं सकते और भविष्य … मैं ऐसा हूं “जो भविष्य है” कोई भी अपना भविष्य नहीं जानता है।

हम यह भी नहीं जानते कि हम कल देखेंगे या नहीं। हम नहीं जानते कि कब हमारी आँखें स्थायी रूप से बंद हो जाएंगी, और कब हम दूसरी दुनिया के लिए अपनी यात्रा शुरू करेंगे।

भविष्य हमारे हाथ में नहीं है लेकिन हाँ वर्तमान हमारे हाथ में है, हम अपने वर्तमान को खुशियों से भर सकते हैं।

अपने जीवन के हर पल का आनंद लें, पहाड़ से आने वाली नदी की तरह अपनी मुस्कुराहट बनाएं, मानसून की बारिश की तरह रोएं, हर एक पल को महसूस करें कि ऐसा फिर कभी नहीं होगा और ऐसे ही जिएं जैसे यह “जीवन” नामक यात्रा का आपका अंतिम दिन हो।

अपने आत्मसंतुष्ट करने के लिए हर एक दिन, हर पल, हर पल का आनंद लें। इस हलचल के बीच में आप “अपने मन की आंतरिक शांति” प्राप्त कर सकते हैं।

This website is open public platform where all the writers show their talent world wide. Also readers can review or give suggestions to the writers through comment section.

Leave a Reply

Your email address will not be published.