Poems

हमारी लाडो “विद्या”!


तुम्हारे मेरे प्यार से जन्मी

बिटिया रानी, हमारी विद्या

एक मन्नत ईश्वर के वरदान जैसी

गुड़िया रानी, हमारी विद्या


प्यारी इतनी हमारे प्यार के जैसी

मीठे गुड़ की डली, हमारी विद्या

चलती फिरती हमारा अक़्स हो जैसे

गुण रूप सम्पन्न, हमारी विद्या


तुम्हारा प्रकाश मेरे ममत्व से ओत प्रोत

ख़ुशियों की सौगात, हमारी विद्या

जो चमकेगा सितारा एक मिसाल बनके

नाम हमारा ऐसे रौशन करेगी, विद्या


घर भर, आंगन से छत तक दौड़ती फुदकती

तुतलाकर पापाजी मम्मीजी हमें पुकारेगी, विद्या

तुम्हारे कांधे चढ़कर दुनिया देखेगी

मेरी गोद में लोरी सुनकर सोएगी, विद्या


तुम और मैं जो पृथक होकर नही

हमारी वही एक जोड़ी का सूत्र, हमारी विद्या

हम जो बड़ी सी दुनिया एक दूजे के

उसी के शिखर पर एक उज्ज्वल पताका

हमारी लाडो, विद्या !


written by : बेज़ुबाँ Rhea V Prakash

instagram profile : @rhea_ki_zubaani

This website is open public platform where all the writers show their talent world wide. Also readers can review or give suggestions to the writers through comment section.

Leave a Reply

Your email address will not be published.